Category Archives: Uncategorized

रुहानी चिरमिलन

आंखों की कोर से मोती सा आंसू लुढ़का और कंपकपाते हाथों से जूड़े से सफेद गुलाब निकाल कर शुभ्रा ने शंशाक की बूढ़ी अंगुली में दबा दिया…
शशांक को हार्ट सर्जरी के बाद मेदांता अस्पताल के प्राईवेट वार्ड में शिफ्ट कर दिया गया था। वहां पर उसका आवसीय विद्यालय का साथी रोहित, सर्जन के रुप में विख्यात था और उसकी ही टीम ने शशांक की सर्जरी की थी, लेकिन अभी थोड़ा खतरा था इसलिए डा. रोहित हर वक्त शशांक की प्रोग्रस मोनीटर कर रहा था। शशांक की दोनों बेटियां अपनी मां को संबल देने के लिए विदेश से लौट चुकी थी। डा. रोहित ने शशांक की पत्नी व बेटियों को आराम करने के लिए उसी शहर में उनके घर भेज दिया था। शशांक के अन्य दो लंगोटिया यारों ने भी मेंदाता में ही जिगरी दोस्त की देखभाल का जिम्मा संभाल रखा था। पांच दिन के बाद शशांक की हालत में थोड़ा सुधार हुआ। परिचित सभी मिलकर जा रहे थे और हर संभव मदद का वायदा शशांक के परिवार वालों से कर रहे थे।
एक दिन रात्रि के दस बजे थे जब शंशाक ने डा. रोहित को पास बुलाया और एक कागज कलम के लिए ईशारा किया। रोहित ने तुरंत जेब से पेन निकाल कर एक कागज शशांक को दे दिया। सर्जरी की वजह से हालत बहुत अच्छी नहीं थी। काफी कमज़ोरी आ चुकी थी लेकिन पेन को संभालते हुए शशांक ने एक नाम उस पर लिख दिया। डा. रोहित ने जैसे ही पढ़ा ,” call Shubhra” तो वह गंभीर हो गया क्योंकि जिसका नाम लिखा था वह शंशाक की पहली “प्रीत” थी जिससे उसका संपर्क सालों पहले एक गलतफहमी की वजह से टूट चुका था… शंशाक की पत्नी शंकालु स्वभाव की थी और शुभ्रा और शशांक ने सालों पहले दूरी बना ली थी यद्यपि दोनों टेक्नोलॉजी में आए बदलाव के बाद कक्षा के समूह “याराना” में मेम्बर थे। शंशाक की सर्जरी की खबर समूह में ही शुभ्रा को भी पता चली थी लेकिन वह अपने वायदे से बंधी थी यद्यपि मन ही मन उसने अपने इष्ट देव से उसके लिए मंगलकामना की थी। डा रोहित जानते थे कि इस वक्त मरीज की मांग को पूरा करना उसके स्वास्थ्य के लिए बहुत अहम है। डा रोहित के पास शुभ्रा का व्यक्तिगत मोबाइल नंबर था तो उसने तुरंत शुभ्रा को वटसप किया।
“शुभ्रा, it’s Rohit here. Please reach hospital tomorrow morning at 11am. It’s urgent…”
” Is everything alright? How is Shshank? I hope nothing serious…”
” Everything in control, but please do come”
” Ok, I will be there in time”
शुभ्रा दूसरे शहर में रहती थी इसलिए रोहित ने सुबह आने के लिए कहा था। शुभ्रा सेवानिवृत्त हो चुकी थी और घर पर अकेली रहती थी। उसके पति दो साल पहले ही उसे छोड़कर दुनिया से अलविदा कह चुके थे।
रातभर, शुभ्रा के दिलोदिमाग पर शंशाक के साथ बिताया समय आंखों के सामने तैर गया… वह पल जब पहली बार इश्क़ ने दस्तक दी थी…वो रुमानी ख्याल जो दोनों का सांझा सपना था… वो पहला चुम्बन जो उसके हृदय को झंकृत कर गया था… समाज की वह संकीर्ण मानसिकता जिसकी वजह से हुई थी जुदाई… वर्षों बाद संपर्क हुआ तो दोस्ती का बढ़ाया हुआ हाथ शंकालु पत्नी की भेंट चढ़ा… वह मानसिक आघात जिसने उसे तोड़कर रख दिया था… पति के साथ हुए झगड़े… निश्छल प्रेम जो वह उसकी पत्नी और बच्चों पर न्यौछावर कर गई थी … उसकी शंशाक से कभी ना मिलने की कसम…क्योंकि उसने इस समाज में रहते ये जाना था कि आधुनिक वस्त्र और खानपान, रहनसहन के आवरण के पीछे जो इंसान जीवित हैं, उनकी सोच अभी भी बहुत संकीर्ण है… एक मासूम रुहानी प्रेम के लिए जहां स्थान नहीं है…शुभ्रा उहापोह में थी कि मेंदाता जाए या ना जाए…वह अंततः ये निर्णय लेकर सो गई कि शंशाक से मिलने जाना ही होगा… क्योंकि शंशाक ही वह शख्स था जिसने “इश्क़” की खुशबू से उसका परिचय करवाया था…नहीं तो इतने खूबसूरत अहसास से वह महरूम ही रहती…।

शुभ्रा ने शौफर को सुबह फोन लगाया और जल्दी पहुंचने के लिए आदेश दिया। ठीक 11 बजे वह रोहित से मिली जो कि बेसब्री से उसका इंतजार कर रहा था। रोहित , शुभ्रा को लेकर शंशाक के कक्ष में गया जो कि अभी छत की तरफ ताक रहा था। रोहित के साथ शुभ्रा को देखकर उसकी आंखों की कोर से मोती समान आंसू लुढ़का, जिसे शुभ्रा ने अपनी अंजुली में लेकर कहा, ” शंशाक, तुम बहुत हैंडसम हो…you are an amazing person” ये वही शब्द थे जो शुभ्रा ने हमेशा उसे कहे थे जब वक्त ने उन्हें जुदा किया। शुभ्रा की आवाज़ सुनते ही शंशाक के होंठों पर मुस्कान तैर गई और आंखों में चमक। शुभ्रा एक घंटे तक शशांक के पास उसका हाथ अपने हाथ में लिए बैठी रही… दोनों की मोहब्बत को कभी शब्दों की बैसाखी की जरुरत नहीं पड़ी थी… एक घंटे की मुलाकात में दोनों ने पूरी जिंदगी जी ली थी। रोहित को धन्यवाद देकर शुभ्रा घर वापिस लौट आयी…।
शाम के समय फिर फोन की घंटी घनघना उठी। उस वक्त वह चाय का प्याला पकड़े टेलीविजन पर भारत पाकिस्तान का मैच देख रही थी और उसकी वफादार “मैड” रात के खाने की तैयारी कर रही थी। रोहित का नम्बर सक्रीन पर शोर कर रहा था। चाय का कप एक तरफ रखते हुए, शुभ्रा ने कांपते हाथों से मोबाइल उठाया। रोहित ने सूचना दी थी कि ” शंशाक is no more”😢😢। शुभ्रा को अपने कानों पर विश्वास ही नहीं हो रहा था। रोहित ने बताया कि “तुम जब मिलकर गई थी उसके एक घंटे बाद ही शंशाक की तबीयत नासाज़ हो गई। हमारी पूरी कोशिश के बाद भी हमारी टीम उसे बचा नहीं पायी..शायद शंशाक तुमसे मिलने के लिए ही अपने दिल को संभाले हुए था…।”😢😢 शुभ्रा ने अपनी सहेली कविता से बात कि , ” कविता, कल दोनों चलेंगे शंशाक की पत्नी व बेटियों से मिलने”। कविता, शुभ्रा की खास सहेली , उसी शहर में रहती थी। शुभ्रा के लिए रात काटे नहीं कट रही थी …असमंजस में थी कि ,पता नहीं शशांक की पत्नी कैसे रेस्पॉन्स करेगी… घड़ी टिक टिक कर अपने वजूद की ओर इंगित कर रही थी लेकिन शुभ्रा को तो लग रहा था जैसे समय ठहर गया है… तकिया पूरा आंसुओं से भीग चुका था… कब नींद आयी उसे नहीं पता। सुबह उसकी “मैड काकी” चाय देने के लिए उसके शयनकक्ष में गई… आवाज़ लगाई…लेकिन कोई प्रतिक्रिया ना पाकर हाथ से झिंझोड़ा… शुभ्रा की गर्दन एक तरफ लुढ़क गई… “मैड” जो एक काकी समान थी सहम गई और तुरंत शुभ्रा के बेटे को फोन लगाया है… दूसरा फोन उसकी सहेली कविता को किया जो तुरंत अपने पति के साथ शुभ्रा के घर पहुंच गई… शुभ्रा की मुठ्ठी बंद थी। कविता ने खोला तो देखा उसके हाथ में वह सफेद गुलाब था जो शंशाक ने विदा होते समय अपने सिराहने रखे गुलदस्ते से निकाल कर उसे भेंट किया था। “याराना” समूह में खबर आग की तरह फैल गई… एक तरफ शंशाक को मुखाग्नि दी जा रही थी तो दूसरे शहर में शुभ्रा इश्क़ की चादर ओढ़े चिता की लपटों में अंतिम यात्रा की ओर बढ़ गई थी…। दोस्तों में चर्चा का विषय था शुभ्रा और शंशाक का रूहानी चिरमिलन, जो इस समाज व दुनिया के बंधनों से मुक्त हो आसमां में दो चमकते सितारों के रूप में देदीप्यमान हो चुके था।
रुहानी इश्क़ की खुशबू को फैलने से कोई नहीं रोक सकता। ये समाज, दो प्रेमीयों को एक साथ जीवन जीने में अवरोध उत्पन्न कर सकता है लेकिन जिस इश्क़ में रुहानी इत्र की सुंगध है उसे नष्ट करने की ताकत इस धरती पर किसी के पास नहीं है…नापाक हैं वो जिन्हें इश्क़ के सही मायने समझ में नहीं आते।

✍️©® डा सन्तोष चाहार “जोया”१६/०६/२०१९

जाने क्यूं

जाने क्यूं
लड़ती रहती हूं
पंरपरा के घोडों से
निपट मूर्ख निगोड़ों से
स्व का ढ़ोल पीटते भगोड़ों से।

जाने क्यूं
टकर लेती रहती
संकीर्णता के घेरों से
दंभ में चूर पहरों से
अतीत के घाव गहरों से।

जाने क्यूं
उठा लेती हूं
तख्ती कलम दवात
धनुष तीर टंकार
धरा पर नहीं मैं भार।

जाने क्यूं
कर्म की प्रहरी बन
सज़ाती ख़्वाब धुन
ठोकती हूं ताल मैदान
जीतती निज स्वाभिमान।

जाने क्यूं
खोल फेंकती हूं पायल
बंधन जो करते हृदय घायल
होती हूं स्व दृष्टि की कायल
मोड़ना चाहती हूं वक्त का डायल।

जाने क्यूं
चाहती निजता का अंश
उड़ना चाहती गगन बिन दंश
घर बाहर के तालमेल का पंख
सीमाओं की छाती में फूंक शंख।

#नारी शक्ति # नारी स्वाभिमान #देश बने महान

✍️©® डा.सन्तोष चाहार “जोया” 08/03/2019

ब्लॉकड इश्क़

महिमा, नाम के अनुरूप, सुंदर, सुशील व मानवीय मूल्यों से सुसज्जित, सुदृढ़ व्यक्तितव की धनी थी। देहरादून की डिफेंस अकेडमी में जब वह कैडेट के तौर पर आफिसर टैरेनिंग का हिस्सा बनी तो सभी युवा कैडेट्स की नज़रों में उसने एक अलग जगह बना ली थी। शशांक भी इस एकेडमी की शान था। गठीला बदन, छ: फुट का कद , घुंघराले बाल, सुरमयी नयन व उसकी शालीनता किसी को भी सम्मोहित करने के लिए काफी थी। चार साल की सख्त आफिसर टैरेनिंग के साथ साथ हम सब साथी महिमा और शंशाक के बीच अंकुरित होते इश्क़ के साक्षी रह रहे थे। समय के साथ इस प्रेम में रची बची सुगंध दोनों के परिवार वालों तक भी पहुंची।

पासिंग आऊट परेड के बाद शंशाक ने महिमा को अपने माता पिता से मिलवाया। हम सब साथी अलग अलग जगहों पर पोस्टिंग मिलने के बाद अपनी रेजीमेंट का हिस्सा बन चुके थे। मातृभूमि की सुरक्षा अब हमारे नाजुक कंधों पर थी। कारगिल युद्ध छिड़ चुका था। शशांक भी इस युद्ध में अग्रिम पंक्ति में तैनात था। दुश्मन देश की तरफ़ से बम वर्षा लगातार जारी थी। शंशाक के नेतृत्व में बीस जवानों की टुकड़ी पहाड़ी के पीछे छुपे दुश्मन सैनिकों पर टूट पड़ी। दोनों ओर से भयानक गोलाबारी चल रही थी। दुश्मन के छक्के छुड़ा कर टुकड़ी लौट रही थी। शंशाक ने पहले अपने साथियों को कवर फायर देते हुए सुरक्षित स्थान पर पंहुचा दिया। सभी साथी बेस कैंप पहुंच चुके थे और अपने कमांडर शंशाक का इंतजार कर रहे थे। काफी वक्त बीतने के बाद उच्च कंमाडर को सूचना दी गई। दो दिन तक शशांक की कोई खोज़ खबर नहीं थी।

खैर, एक सप्ताह बाद आंतकवादी के चुंगुल से बच कर शशांक भी अपनी यूनिट में पहुंच चुका था। महिमा को ग्राउंड की जिम्मेदारी सौंपी गई थी। शंशाक के वापिस लौटने का समाचार पाकर उसने राहत की सांस ली थी। एक साल तक शंशाक और महिमा का इश्क़ परवान चढ़ता रहा। महिमा ने दिल से उसे जीवनसाथी के रूप में अपने हृदय में बसा लिया था। अपने प्रेम के प्रति वह आश्वस्त थी। रंगीन सपने उसके आनेवाले कल में अनेकों रंग भर रहे थे। लड़कियां वैसे भी अपनी रिलेशनशिप को लेकर बहुत कमिटेड होती हैं। शशांक एक महीने की छुट्टी पर घर गया था। जब लौटकर आया तो उसकी जीवन संगनी उसके साथ थी जिसके चेहरे से नूर टपक रहा था। तहकीकात की गई तो पता चला नूर, शशांक के कम्पनी कमांडर बिरगेडियर सुबोध की बेटी थी और शशांक ने इस रिश्ते को इसलिए नहीं ठुकराया, क्योंकि वह जल्द ही प्रमोशन चाहता था और बिरगेडियर की छत्रछाया में अपना सुरक्षित भविष्य देख रहा था।

उधर महिमा एक साधारण परिवार से आती थी। महिमा को शंशाक की शादी के बारे में पता चला चुका था। उसका इश्क़ एक उच्च आंकक्षा रखने वाले शंशाक के स्वार्थ की भेंट चढ़ चुका था। अंतस पर लगी इस चोट ने महिमा को गहरे अवसाद में ढकेल दिया। परंतु परिवार और दोस्तों के सबंल से वह जल्द से ही बाहर आ गई थी। अब अपने माता पिता की आज्ञा को शिरोधार्य करते हुए उसने भी अपनी नयी जिंदगी शुरू करते हुए मेज़र शेखर से शादी कर ली थी। बहुत सालों से महिमा और शंशाक सोशल मीडिया से संपर्क में थे। लेकिन शशांक द्वारा दिए धोखे से आहत होकर, अब उसने शंशाक को ब्लाक कर दिया था क्योंकि वह अपने नये जीवन में उसकी छाया को भी प्रवेश नहीं देना चाहती थी।

जो व्यक्ति किसी भी रिश्ते को लेकर गंम्भीर होते हैं उन्हें चोट भी उतनी ही गहरी लगती है। जिस प्रेम को क्षण क्षण महिमा ने सिंचित किया था उसकी इस तरह की बेवफाई ने उसके हृदय में आक्रोश भर दिया था। रोम रोम में व्यापत इश्क़ की खूशबू अब महिमा के लिए जहर का काम कर रही थी। जो शंशाक अपने प्रेम की कसमें खाते हुए कहता था कि, ” दिल चीर कर देख लो। इस दिल में तुम्हारा ही नाम लिखा है”। जाने उसकी क्या मजबूरी थी कि अपने प्रेम पर दाग लगा गया था। महिमा ने वे सब कैसट भी अग्नि की भेंट चढ़ा दिए जिसमें शशांक के द्वारा गाए नगमें थे, जो महिमा के प्रति समर्पित थे। अब उन गानों को सुनती थी तो हृदय में शूल से चुभते थे। शंशाक और महिमा के बीच जिन पत्रों का आदान प्रदान हुआ था उनको भी महिमा ने अग्नि की भेंट चढ़ा दिया था। अपने इश्क़ को इस तरह अग्नि के हवाले करते महिमा के दिल के आंसू सैलाब बन उमड़े थे। निर्णय तो लेना ही था क्योंकि जख्मों को साथ लेकर जीने से वर्तमान और भविष्य दोनों पर गहरा असर पड़ता है।

महिमा अपने गृहस्थ जीवन में खुश थी। मेज़र शेखर एक सुलझे हुए इंसान थे। महिमा ने पति से विवाह से पहले की सभी बात सांझा कर ली थी क्योंकि दोनों पति पत्नी जानते थे कि आधुनिक समय में सभी के कोई न कोई प्रेम प्रसंग होते हैं और बेहतर है उन यादों को जहन से एकबार निकाल कर नयी जिंदगी की शुरुआत की जाए तो पति पत्नी का रिश्ता विश्वास की मजबूत नींव पर सवार होकर  जिंदगी में सुवास भर देता है। महिमा शेखर जैसे पति को जीवनसाथी के रूप में पाकर गौरवान्वित महसूस कर रही थी और उसकी बाहों में महफूज़ भी।

✍️©® “जोया” 08/02/2019

दास्तां ए इश्क़

उन दिनों मेरी कर्नाटक में पोस्टिंग थी और मैं आर्मी में मेज़र के पद पर तैनात था। दिसम्बर का महीना था, हल्की ठंड़क थी। मैं नाश्ता करने के बाद अपने घर के बगीचे में कुर्सी मेज़ लगा कर बैठा था। रविवार का दिन था। कुछ जरूरी डाक थी जो शनिवार को स्टेशन से बाहर होने की वजह से देख नहीं पाया था। इसलिए अर्दली सुबह देकर गया था। एक एक करके मैं सारी डाक देख रहा था। तभी एक खत जिस पर गुरुग्राम की स्टेम्प लगी थी मिला। ख़त पर भेजने वाले का कोई नाम पता नहीं था। हां, लिखावट जानी पहचानी लग रही थी। खैर, ज्यादा न सोचते हुए मैंने वह पत्र खोला और मेरे आश्चर्य का ठिकाना नहीं था। हर्ष व पीडा़ से मिश्रित आंसू मेरी आंखो में छलक आए। पत्र के अंत में भी नाम नहीं लिखा था- सिर्फ कप्तान व दूरभाष नम्बर लिखा था। वह शायद मेरी याददाश्त को परखना चाह रही थी। ये मेरी मोहब्बत का ख़त था जो मेरी रुह का हिस्सा उस समय बन गई थी जब हम दोंनो ने बचपन पर सवार होकर युवावस्था की दहलीज पर कदम रखा था।

मेरा मन दर्पण मुझे 1970 के दशक में ले गया जब हम दोनों को देहरादून के एक आवसीय विद्यालय में प्रवेश मिला था। दसवीं कक्षा में कदम रखते तक, मधु का नाम हर बच्चे और अध्यापक की जुबान पर था। राजस्थान से आई, इस लड़की की सादगी, अनुशासन, पढ़ाई और खेल क्षेत्र की उपलब्धियों का परिणाम था कि बारहवीं कक्षा में उसे हैड गर्ल, रुम कप्तान, एथलेटिक्स कप्तान व कक्षा मोनीटर की जिम्मेवारी सौंपी गई। मुझे स्वयं भी चूंकि विद्यालय कप्तान होने का गौरव प्राप्त हुआ था इसलिए मेरा व मधु का संपर्क का दायरा विस्तृत हो रहा था। विद्यालय की अनेक गतिविधियों का हम हिस्सा रहे थे। एक दूसरे के प्रति जादुई सम्मोहन था। मधु एक कठोर आवरण अपने चेहरे पर ओढ़े रखती थी। उसका सौम्य व्यक्तित्व, उसके चेहरे का तेज़ और अंदाज में गंभीरता, किसी को भी अपनी तरफ़ आकर्षित करने के लिए काफी था। मेरी दीवानगी उसकी तरफ दिन प्रतिदिन बढ़ती जा रही थी लेकिन उसकी आंखों के तेज़ की वज़ह से मेरा साहस साथ नहीं देता था। अपने दिल में उमड़ते घुमड़ते प्रेम रस से परिपूर्ण बादलों की बरखा को मैं उसके हृदय की धरती पर बरसाना चाहता था। मेरी दीवानगी से मेरे दोस्त भलीभांति परिचित थे। उन्होंने कहा कि ” यार, जब तक तुम उससे इज़हार नहीं करोगे तो वह कैसे समझेगी”।लेकिन उसके चेहरे का हर वक्त का कठोर आवरण मेरी हिम्मत को तोड़ देता था।

युवा हृदय में अवतरित प्रीत तरंगें मन को उद्वेलित कर रहीं थी। एक दिन जब मधु रात्रिभोज के बाद मैस से निकल रही थी तो मैने एक जूनियर से कहलवाया कि, ” मधु को बोलो, स्कूल कप्तान ने कुछ समय रुकने आदेश दिया है”।मुझे’आदेश’ शब्द का इस्तेमाल करना पड़ा क्योंकि पहले दिन मेरे दोस्त के कहने पर वह रुकी नहीं थी। सभी छात्र छात्राएं अपने अपने छात्रावास का रुख कर चुके थे। मैं, शंशाक, पूरी हिम्मत बटोर कर उसके पास गया और बड़ी मुश्किल से इतना कह पाया, ” तुम मुझे बहुत अच्छी लगती हो”। उसने कुछ कहा तो नहीं लेकिन पहली बार उसकी नज़रों में अपने लिए मोहब्बत देखी थी। उसके बाद हमारी नज़रें एक दूसरे को पढ़ने में मशगूल रही थीं। वह खामोशी से प्रेम गीत गुनगुनाती थी और मैं चुपके से सुनता था। हम दोनों ने ही कभी रुहानी प्रेम को शब्दों में नहीं पिरोया था।

आवासीय विद्यालय में सभी कप्तान प्रिंसिपल के साथ दोपहर का भोज़न करते थे। खाने की मेज़ पर भी मधु और मैं आमने सामने ही बैठते थे और अनायास ही हमारी नज़रें प्रेम का संचार कर जाती थी। शब्द खामोशी की चादर ओढ़कर नृत्य करते थे जिसके सम्मोहन में मेरा अस्तित्व मधु के साथ एकाकार हो जाता था। स्टेडियम हो या ऑडिटोरियम हर प्रोग्राम में हम साथ हिस्सा लेते थे। मैं हॉकी का अच्छा खिलाड़ी था और वह लम्बी दूरी की धावक। मेरी उपस्थिति मात्र से ही उसके धावक कदम हवा की गति पकड़ जाते थे। पांच किलोमीटर की लम्बी दूरी वह हर बार अंतर- हाऊस मुकाबले में जीत जाती थी। उसकी अगवानी में एथलेटिक्स टीम ने अनगिनत राज्य स्तरीय व राष्ट्रीय स्तर पर पारितोषिक जीते थे।

1980
बारहवीं कक्षा के इम्तिहान नज़दीक थे और हम दोनों अपने नोटस एक दूसरे से सांझा करते थे। उन्हीं नोटस में, मैंने हिम्मत करके एक पत्र रख दिया। इश्क़ की सुगंध से महके ख़त, जिसमें मोहब्बत थी, सम्मान था, उसका इज़हार कर दिया। प्रत्युत्तर में उसकी स्वीकृति पाकर मेरे मन का हिरण कुलांचे भर रहा था। उसने ये भी कहा कि दुबारा ख़त न लिखें और पढ़ाई पर ध्यान देने की हिदायत दी। खैर परीक्षा भी समाप्त हुई और अब ग्यारहवीं कक्षा के छात्रों द्वारा विदाई समारोह का आयोज़न किया गया। मधु भावुक बहुत थी ये उस दिन पता चला जब उसके मृगनयनों से सावन भादों की झड़ी लग गई थी। स्टेज़ पर ग्यारहवीं कक्षा के छात्र शरारत भरे अंदाज में हर किसी का टाईटल दे रहे थे। हम दोनों का नाम एक साथ पुकारा गया। एक गीत बज़ रहा था, ” चांद आहें भरेगा, लोग दिल थाम लेंगे, जब हुस्न की बात चलेगी सब तेरा नाम लेंगे”।पूरे हॉल में करतल ध्वनि गूंज रही थी और हम एक दूसरे को देखे जा रहे थे। एक छात्र हमारे सामने कुछ पर्चीयों वाला बॉक्स लाया और कहा कि, ” आप दोनों को एक एक पर्ची उठानी है।” हम दोनों ने पर्ची उठाई तो उस पर लिखा था, ” पंसदीदा साथी के साथ डांस”।हॉल फिर करतल ध्वनि से गूंज उठा।

एक स्टेज़ प्रोग्राम में एक बार कोरियन डांस किया था। उसकी ही धुन बज़ने लगी और पहली बार हमने एक दूसरे को छुआ था। इतने सालों से स्व अंकुशित प्रेम को नदी सा प्रवाह मिल गया था। प्रेम सागर की लहरें, तट को छूने के लिए आतुर दी थी। खैर, चैलेंज सामने रखा तो हमने भी अच्छी परफोर्मेंस दी। स्मृति चिन्ह लेकर हम स्टेज़ से उतर आए। रात्रिभोज़ के दौरान पता चला कि उस बॉक्स में उन सभी पर्चियों पर ही “कपल्स डांस” लिखा हुआ था। ये तो जानबूझकर की गई शरारत थी। अब समझ आ गया था कि हम दोनों ने चाहे इश्क को खामोशी की चादर में लपेटकर रखा लेकिन इश्क और मुश्क छुपाए नहीं छुपता। इश्क़ की सुवास वातावरण को महका ही देती है। एक दूसरे के ऑटोग्राफ लेकर हम सब साथी विदा हो गए अपने अपने सपनों को पूरा करने…।

मधु और मैं गांव के परिवेश थे लेकिन पढ़ाई के लिए परिवार शहर में शिफ्ट कर गए थे। मधु उदयपुर चली गई और मैं एन। डी। ए। में चयनित होकर देहरादून डिफेंस एकेडमी। एक महीने बाद मधु का खत आया था। उसका पत्र मिलते ही मेरी दिल की धड़कन बढ़ गई थी। प्रेम की खुशबू से महकता खत मेरे दिल के दरवाज़े से होता हुआ रुह को छू गया था। मैं खुश था। मैनें भी जवाबी खत लिखा जो कि बहुत सामान्य सा था, सबकी खैर खबर, क्योंकि मैं समझता था कि ऐसी कोई बात ना लिखी जाए जो मधु के लिए परेशानी का सबब बने। लेकिन इश्क की राह में बाधाएं ना आएं, ये मुमकिन नहीं। अस्सी के दशक में तो इश्क़ करने वालों को गुनहगार की तरह देखा जाता था। परिवार की मान मर्यादा की दुहाई दी जाती थी और इश्क़ परंपरा की बेड़ियों में जकड़ दिया जाता था। पंद्रह दिन बाद मधु का दूसरा खत आया था जिसमें उसने लिखा था कि, ” पिताजी बहुत ओवर पोरक्टेटिव हो रहे हैं… आदि आदि… कि यदि तुम वास्तव में मुझ से मोहब्बत करते हो तो ये हमारी मोहब्बत की परीक्षा है.. मुझे कभी खत मत लिखना… तुम हमेशा मेरे हृदय पर राज़ करते रहोगे…।”

1998
आज़ अठारह साल बाद उसका ख़त मेरे पास फिर आया है। मैं उसे दुबारा खोना नहीं चाहता था। उसने बताया कि उसकी जल्दी शादी कर दी गई थी। फिर घर गृहस्थी की जिम्मेदारी में उलझ कर रह गई थी। शशि के पास उसकी शादी का कार्ड देखा था…उस दिन घर आकर मैं आंसुओं के सैलाब में बह गया था। शशि ने पूछा था, ” कि तुम्हें पता है उसकी शादी हो रही है?” मैंने कहा, “हां, मैनें ही उसे कहा है जैसे तुम्हारे पिताजी कह रहे हैं वैसा ही करो”। मेरे लिए खो गई थी वह। उसकी शादी के दस साल बाद मेरे खास दोस्तों ने बहुत समझाया। तब तक मैं आर्मी का करियर चुन चुका था। मेरे एक बहुत ही खास दोस्त ने मुझे अपनी बहन के रिश्ते की बात करके दोस्ती को और मजबूत करने का सुझाव दिया जो मैं ठुकरा न सका क्योंकि मेरा सबसे खास दोस्त था जिसने मुझे मधु की जुदाई में बिखरते देखा था। मन में ये सब चल रहा था तभी छाया गरमागरम चाय के दो कप लेकर आई और पूछा, ” कहां खोए हो? मैंने पत्र छात्रा की नज़रों से बचा लिया था और बाकी डाक के साथ रख दिया।

छाया थोड़ी शंकालु प्रवृत्ति की थी इसलिए मैं उससे ये बात सांझा नहीं कर रहा था। मधु को जवाबी ख़त लिखते वक्त मेरे रोम रोम से वक्त की तिजोरी में कैद इश्क पंख लगा कर उड़ रहा था। मधु और मेरे बीच पत्रों का सिलसिला जारी रहा व दूरभाष से भी संपर्क जारी रखा। सोयी हुई हसरतें फिर जाग उठी थी। पहली मोहब्बत को भुलाना नामुमकिन होता है। शादी तो एक आपसी समझौता होता है, जहां प्रेम कम और आरोप प्रत्यारोप अधिक होते हैं और इसलिए प्रेम की सुवास कुछ समय बाद ही मंद पड़ जाती है। शादी में केवल रह जाता है परिवार के प्रति फर्ज़ और कभी ना समाप्त होने वाली अपेक्षाएं। भारतीय समाज में यूं भी शादी एक व्यक्ति से ना होकर पूरे परिवार से होती हैं। एक बेटा मां और पत्नी रुपी दो पाटों के बीच पिसता रहता है। इस तरह प्रेम कहीं लुप्तप्राय हो जाता है।

मधु का मेरे जीवन में दुबारा आना ऐसे ही था जैसे सूखे झरने में जल का प्रवाह हो जाए। हम दोनों अपने परिवार के प्रति समर्पित रहते हुए भी उस सागर में डूबकी लगा रहे थे जहां प्रेम में लिपटे नायाब मोती, हमारे जीवन को पुष्पित पल्लवित कर रहे थे। जीवन में एक नयी स्फूर्ति और उर्जा का संचार हो चुका था। इश्क़ लेकिन पूरा हो जाए तो वह सुंगध खो देता है। मधु और मेरे इश्क़ की दास्तां में भी विरह ने दस्तक उस वक्त दी जब एक बार दूरभाष पर मेरी पत्नी ने मुझे प्रेमालाप करते सुन लिया। उसकी शंकालु निगाहें मेरे स्वभाव में आए परिवर्तन से चौकस थीं। छाया, जिसे मैंने मधु से अलग होने के बाद सबसे अधिक चाहा था, बिफ़र गई। स्थिति को संम्भालते हुए मधु को मैंने वस्तुस्थिति से अवगत कराया। हम दोनों का इरादा किसी को आहत करने का नहीं था। लेकिन प्रेम का बीज उर्वरक धरती पर डलेगा तो अंकुरित तो होगा। मधु नहीं चाहती थी मेरे परिवार पर कोई आंच आए, इसलिए हम दोनों ने जुदाई की राह पकड़ ली जहां अपने अपने परिवार के प्रति बस फर्ज़ ही फर्ज़ था। इश्क़, पीड़ का आंचल ओढ़कर प्रेमी हंसों की तलाश में निकल पड़ा।

शंशाक ने जैसा लेखक के साथ सांझा किया।

✍️©®”जोया” 06/02/2019

औरत की कहानी

पहला परिदृश्य

औरत की ये अज़ब कहानी

दुनिया करती आई मनमानी।

दोयम दर्जा दिया पुरुषों ने

नित किया अपमान नये हथकंडों ने।

लक्ष्मण रेखा की पहेरेदारी
कभी ना की सुखों की सवारी।
सुबह से हो जाती शाम
कभी ना होते खत्म घर के काम।

खेत खलिहान को भी जोतती

कष्टों को नित वह भोगती।

खाकर रुखी सूखी सो जाती

कभी कभी तो रह जाती भूखी।

परिवार पर रहती हरदम न्यौछावर

सिर पर ढ़ोती नीर सरोवर।

ईर्ष्या उसकी को खूब भुनाया

औरत को औरत से टकराया।

नारी को नारी के खिलाफ किया खड़ा

इस तरह पुरुष बना रहा बहुत बड़ा।

होती रही वासना का शिकार

पीडा़ का नहीं कोई पारावार।

दूसरा परिदृश्य

परंपराओं की जंजीर से जकड़ी
सपनों की डोर फिर भी पकड़ी।
शिक्षित होने वह अब निकली
नहीं ओढ़ती नकाब वो नकली।
खेल जगत में मुकाम बनाया
देश का गौरव नित बढ़ाया।
छूती अब गगन तारिकाएं
झंडा देश का चोटी पर लहराएं।
बन फौजी देश का गौरव बढा़ती
बाधाओं से नहीं अब घबराती।
बन पायलट वह विमान उड़ाती

दुश्मनों के छक्के अब छुड़ाती।

बनकर आई एस अधिकारी

योजनाएं बनाती न्यारी न्यारी।

सी.ई.ओ बन योग्यता का परचम फहराती

डिजिटल भारत का तिरंगा लहराती।

शिक्षाजगत की दुनिया उसकी अनोखी

महिला शिक्षादिक्षा में महारत उसकी चोखी।

बढ़े कदम बनाते नित नयी डगर

मिट जाएगा अब मन का तिमिर।

✍️©® “जोया” 22/01/2019

अटूट मौन

शब्द बयां नहीं कर सकते उस प्रेम को जो सुरभि और शंशाक एक दूसरे के लिए महसूस करते आ रहे थे जब से दोनों ने बचपन की दहलीज़ पार कर युवावस्था में कदम रखा था। पिछले बारह वर्षों से दोनो एक दूसरे की कदम दर कदम शिक्षा औरखेलजगतकी उपलब्धियों के साक्षी रहे थे। व्यवहार कुशल होने के साथ साथ शिक्षकों के प्रिय विद्धार्थीओं की श्रेणी में दोनों ने नाम दर्ज करवा रखा था।

भाषण प्रतियोगिता हो या नाटक मंचन, हमनें हमेशा दोनों को साथ साथ हिस्सा लेते देखा था। संस्कृत के नाटक शुंकतला में जिस ढंग से दोनों ने दुष्यंत और शुंकतला के चरित्र को चरितार्थ किया उसका पूरे आडिटोरियम में बैठी सभा ने करतल ध्वनिसे स्वागत किया। दोनों ने अपने प्रेम के अटूट मौन को मंच पर अभिनीत करके सबका आशिर्वाद जैसे प्राप्त कर लिया था। कभी भी हमने सुरभि और शंशाक के रोम रोम में बसते प्रेम को शब्दों की बैसाखी पर चलते नहीं देखा। एक दूसरे के पास से गुज़रते हुए उनका अंग अंग प्रेम के संप्नदन को इन्द्रधनुषी जामा पहना जाता था। कभी भी हमने उन्हें किसी भी तरहं की हलकी मस्ती में नहीं पाया। उन दोनों के प्रेम का पूरा बोर्डिंग परिसर साक्षी था। लेकिन क्या मज़ाल कोई किसी तरह की उंगली उठा सके। प्रेम के सागर में डूबकी लगाते हुए भी एक निश्चित दूरी बनाकर रखना व प्रेम के अहसास को नया आयाम देना दोनों के चरित्र की सुदृढ़ता को इंगित करता था।

सुरभि और शंशाक मेरे परम मित्र रह थे बोर्डिंग स्कूल में जहां हमने पहली कक्षा से अपनी जीवन यात्रा शिक्षा जगत के पायदान पर एक साथ शुरू की थी। निश्चित रूप से हम सबकी आपस में एक ऐसी समझ विकसित हुई थी जिसकी खूशबू आज साठ बरस की उम्र में भी भावनाओं से अभिभूत कर जाती है। ये कथनाक 1980 के दशक का है जब प्रेम आज़ की तरह बात बात पर दम नहीं तोड़ता था। उस प्रेम में समुंद्र सी गहराई और आसमान सी ऊंचाई थी जो परंम्पराओ में बंधे होने के बावजूद इश्क की नयी कहानी गढ़ गया था। जिसमें अलगाव भी हुआ, रास्ते भी बदले, अलग अलग गृहस्थी भी बसी लेकिन प्यार ने दम नहीं तोड़ा।

सुरभि और शंशाक अपने परिवार की सीमाओं में बंधे हुए, माता पिता की समझ के हवन में अपने प्रेम की आहुति डालकर कर्तव्य के सज़ग परहरी बने और उनका आशीर्वाद प्राप्त कर अपनी राहों पर पीड़ा मिश्रित आंनद की अनूभूति के साथ गृहस्थीकी डगर चल पड़े। सालों तक अपने जीवन में व्यस्त हम सब साथी डिजिटल मीडिया से दुबारा संम्पर्क में आए और साथ लौट कर आए युवा अवस्था के प्रेम- किस्से। सुरभि और शंशाक आज़ भी पार्टियों में बड़ी संजदगी से एक दूसरे से अटूट मौन में रहकर उस सुरमई अहसास में खो जाते हैं जो बरसों पहले वातावरण में एक सुंगंध फैलाता था। आज़ भी कभी उन्होंने अपनेप्यार को शब्दों में नहीं पिरोया। बस दोनों के साथ होने की सुखद अनूभूति मात्र ही हमारी पार्टियों में नयी खुशबू बिखेर जाती है। हम सबके बीच सुरभि और शंशाक इश्क का वो दरिया हैं जिसमें हम बचपन के साथी प्रेम के मोती चुनने का अधूरा प्रयासकरते हैं।

✍️© “जोया” 09/10/2018

भंवर

दीपा – हां यही तो नाम था उसका।

दीपा मेरे पड़ोस में रहने वाली बहुत ही सुशील और नेकदिल लड़की। नाम के अनुरूप हमेशा जीवन रोशनी से भरपूर। कालेज हम साथ ही जाते थे। वह अपने माता पिता की इकलौती सन्तान बड़ी नाज़ से पली पढ़ी थी। संगीत, चित्रकारी और साहित्यिक कृतियों में उसका गुण निखर कर झलकता था। शिक्षा दिक्षा पूरी होने के बाद हमारे रास्ते अलग हो गए। उसकी शादी सेना में मेज़र से तय हो गई थी और मैं भी शादी के बाद अपनी घर गृहस्थी मे व्यस्त हो गई। पत्राचार हमारे बीच काफी साल जारी रहा फिर धीरे धीरे वह भी कम हो गया।
समय पंख लगा कर उड़ रहा था। बच्चे बड़े होकर शादी शुदा जिंदगी में जम गए थे। पति भी रिटायर हो गए थे। मैं स्वयं भी बैंक अधिकारी के पद से रिटायर हो गई थी। अब मेरे पास काफी समय था और मैं एक स्ंस्था हुनरमंद से जुड़ गई जहां कम पढ़ीलिखी महिलाओं को उनके हुनर के हिसाब से आत्मनिर्भर बनाने में सहायता की जाती थी। बैंक में कार्य करने का मेरा अनुभव काफी काम आया और लोन वगैरा दिलवाने में मैं इन सब औरतों की मदद करती थी। धीरे धीरे मेरी जान पहचान औरतों के हक में आवाज़ बुलंद करने वाली संस्थाओं बढ़ गई थी।

एक दिन हुनरमंद संस्था का वार्षिक उत्सव मनाया जा रहा था तब कार्यक्रम के बीच में मुख्य अतिथि के पास एक महिला आकर बैठ गई। क्योंकि कार्यक्रम संयोजक का जिम्मेदारी मुझे सौंपी गई थी तो मैं स्टेज़ के पास ही खड़ी थी। मेरी नज़र बार बार इस महिला पर केंद्रित हो रही थी। कुछ जानी पहचानी सूरत। चाय पान के समय हम दोनों एक दूसरे को पहचान की कोशिश कर रही थीं। अचानक दोनो ने एकसाथ बोला”संजना‘ ‘दीपाऔर हम यादों में खो गए। दीपा जीवन के दौर में महिला सशक्तीकरण संस्था से जुड़ी थी।

घर आने का न्यौता देकर दीपा चली गई। एक सप्ताह बाद ही उसका फोन आया और हम दोनों सहेलियां जीवन के मुख्य पलों को सांझा कर रही थी। दीपा ने बताया कि वह पति से अलग रह रही है। मेरे पूछने पर उसने बताया कि शादी को दो ही साल हुए थे जब उसके पति का प्रमोशन होना था। उनके घर पर बड़े अफ़सर सौरभ के साथ डिनर चल रहा था और बढिय़ा वाइन तो फौजी घरों में आम बात थी। हंसी मज़ाक का दौर चल रहा था। दीपा भी वाइन लेती थी क्योंकि ये बहुत आम बात थी उस परिवेश में। उस दिन सभी ने कुछ ज्यादा ही ले ली थी और रात के एक बज़ गए थे। दीपा के पति अजय ने सौरभ को वहीं रूकने के लिए कहा। दीपा ने बताया कि वाइन का आखिरी पैग पीने के बाद उसे कुछ नशा ज्यादा हो गया था और सिर में थोड़े चक्कर महसूस कर रही थी, इसलिए वह अपने कमर मे जाकर सो गई।

दूसरे दिन सुबह नींद खुली तो अपने बिस्तर पर सौरभ को पाकर परेशान हो गई। और वह जोऱ से चीखने लगी। सौरभ की नींद भी खुल चुकी थी और वह मंद मंद मुसकरा रहा था।पति अजय सुबह की सैर के लिए निकल चुका था। सौरभ ने कहा ” आज़ रात को मुझे तृप्त करने के लिए शुक्रीया। तुम वाकई बहुत हसींन हो”। दीपा अपने को ठगा सा महसूस कर रही थी और रात की कुछ धुंधली यादें दिमाग़ में अक्स ले रही थी…और वह ग्लानि से भर चुकी थी। सौरभ जा चुका था और पति अजय घर में दाखिल हुए थे। दोनों के बीच खूब झगड़ा हुआ और अजय ने कहा ” क्या हुआ यदि मेरे प्रमोशन के लिए सौरभ को एक रात खुश कर दिया ?”

दीपा ने बताया कि उसी दिन वह अजय को छोड़कर चली आयी थी। जख्म गहरे थे। तलाक की प्रक्रिया पूरी होने के बाद उसने अपने आप को इस संस्था के कार्य में झौंक दिया था। पैसे की दिक्कत नहीं थी। मां बाप ने उसे पूरा सहारा दिया था। अच्छे मनोचिकित्सक से उसका इलाज़ करवाया था। लेकिन दीपा ने बताया कि उसके साथ जो विश्वासघात हुआ उसके निशान इतने साल बाद भी अंकित हैं यद्यपि वह सब भूलना चाहती है पर कभी न कभी उसके मन मस्तिष्क पर सब कुछ छा जाता है और वह चीख चीख कर कहती हैमी टू

दीपा जैसी कहानी हमारे आसपास, हर गांव, कसबे, शहर व हर वर्ग में घटती रहती हैं लेकिन उन औरतों में अभी हौंसला नहीं है अपनी कहानी शेयर करने का, क्योंकिमी टू के भंवर में उलझकर गृहस्थी की नींव को हिलाना नहीं चाहती और दूसरा कारण ये भी हो सकता है कि अभी आत्मनिर्भर भी नहीं हैं जो इस भंवर में उलझें। तीसरा कारण ये भी है कि न्यायालय में फाइलों के अंबार पहले ही हैं और उन्हें नहीं लगता कि उनके जीते जी न्याय मिल जाए। फिर कोइ साक्ष्य थोड़े ही उन्होंने रखें होगें जो अब आवाज़ उठाएं। लेकिन जो लोग ये सोचते हैं कि उसी वक्त आवाज़ उठानी चाहिए थी तो मेरा मानना ये है की “ जो इन हादसों से गुज़रता है वही समझ सकता है कि अपराध बोध, ग्लानि, आत्मविश्वास की टूटन के भंवर से निकलने मे वर्षों लग सकते हैं।

एक फेसबुक पोस्ट मैं पढ़ रही थी। किसी ने लिखा था-
” काम निकलवाना हो तो ‘ Sweetu’ और काम निकल जाए तो ‘Me Too'”
मेरा सवाल ये है कि ” काम करने के लिए क्या पुरूष एक औरत की अस्मिता से खेलेंगे?”
विचारणीय प्रश्न है। सोचिए जरा।

✍️©️”जोया”14/10/2018.

IMG_20181214_003746.jpg

राही तू चलता चल

राही तू चलता चल

लेकर सपने संग

मजिंल तूझे मिलेगी

आज नहीं तो कल।

माना कठिन है डगर

हौसला है तूझ मे अगर

बाधाएँ बन जाएंगी सीढियां

याद करेंगी आने वाली पीढियां।

समाज की आसुरी प्रवृत्तियां

और विघटनकारी शक्तियां

फैला रही हैं आंतक

समय की पुकार

करना है इनका अंत।

वर्ग, जाति और धर्मों में बटा ये देश

समाज की नींव हिल रही

धरती देती संदेश

रचयिता ने जब किया नहीं भेद

क्यों मानव मानव की छाती मे कर रहा छेद।

आरक्षण का कीड़ा

रिस्ते घावों की पीड़ा

राही उठा ये बीड़ा

हल ढूंढो ताकि मिट जाए पीड़ा।

आरक्षण ग़र देना है

दे दो आर्थिक आधारों पर

गरीब की कोई जात न होती

कौन समझाए नामदारों को।

हिमा, दुती और स्वपना

मान बढ़ाती विदेशों में

गरीब परिवारों से निकली ये धावक

देश का मान हैं, सम्मान हैं

इनको आदर्श बना कर चल

मजिंल तूझे मिलेगी

आज नहीं तो कल, राही तू चलता चल।

बहा बदलाव की बयार

नहीं माननी है तूझे हार

छोटे छोटे कदमों से तय करना है सफर

हो जा निश्छल और निडर

राही तू चलता चल।

हवाएं भी चल पड़ेगीं तेरे संग

तू चल तो सही लेकर नयी उमंग

क्षमता तेरी तू नभ नाप

कलम तेरी हिम्मत छापे

फिर काहू का डर व्यापे।

ग़र भुजाओं मे है बल

हर कोशिश होगी सफल

राही तू चलता चल

मिलेगी मजिंल तूझे

आज नही तो कल।

दृढ़ संकल्प और मनोबल से

हर प्रश्न हो जाता है हल

राही तू चलता चल

क्योंकि कभी नहीं जाती विफल।

सदभावना की माला पिरोता चल

लेकर फूलों की ताजगी संग

प्रकृति से लयबद्ध होकर चल

मजिंल तूझे मिलेगी, आज नहीं तो कल।

—-सन्तोष चाहार—04–09–2018