Category Archives: light

एहसास

तुम्हें,
एहसास नहीं,
तुम्हारे द्वारा फेंकें गए
एक एक पत्थर को चुन चुन कर,
यथार्थ की धरती पर,
टूटे सपनों को
उसने
हकीकत में बदला।
तुमने
सोचा था, कि
पाषाण हृदय से टकरा कर
वह
चूर चूर हो जाएगी।
वक्त
बना गवाह,
कुरीतियों के
पत्थर तोड़कर
सदियों से अंतस में दफ़न
हौंसले का बीज
पनपकर
विशाल वृक्ष बना।
उसकी,
शाखाओं पर
नारी शक्ति के हरे पत्ते
नित नये फूट कर
करते रहे
दमघोंटू वातावरण में,
नयी ऊर्जा
नये पैमाने
नयी सोच की,
ऑक्सीजन का
उत्सृजन।
ये हरे पत्ते
सोखते रहे
परंपरा
की, जहरीली
कॉर्बन डाई ऑक्साइड
व निर्मित करते
वृहदाकार शीतल छांव।
इस
छांव तले,
बेटीयां,
जिंदगी के पन्नों पर,
करती
स्वाभिमान के हस्ताक्षर।
वे, जो
राहें चुनती,

हासिल करती,
होती
उनके सुमुख,
पितृसत्ता भी नतमस्तक।
तुम्हें
एहसास हो या ना हो
मंजिल की ओर
बढ़े
नारी के ये कदम
मुकाम
हासिल कर
विलक्षण क्षमता का
देती रहेंगी यूं ही परिचय।
✍️©® डा.सन्तोष चाहार “ज़ोया” ०६/१०/२०१९

Advertisements

मुमकिन

है मुमकिन
स्नेह की चादर पर
रिश्तों के मोती सजाना
थोड़ा झुक कर
थोड़ा मुस्कुरा कर

है मुमकिन
बुजुर्गों से लेना
आशिर्वाद
थोड़ा उन्हें सुनकर
थोड़ी सेवा कर
लगा पाएं जख्मों पर मरहम

है मुमकिन
बेटियो के सपनों को
मिलना परवाज़
गर मुक्त हो
उनके कदम
दोहरे मापदंड से

है मुमकिन
शिक्षित हो समाज
दीप से दीप जले
मिट जाए
गहन अंधकार
निभाएं हम इंसानियत धर्म

है मुमकिन
कृषक बन जाए
खुशहाल
अपनी उपज़
का दाम तय
करने का हो अधिकार

है मुमकिन
वंचित को मिले
योजनाओं का लाभ
भ्रष्टाचार
का भस्मासुर
गर स्मूल नष्ट कर दिया जाए

है मुमकिन
लेना शुद्ध हवा में स्वास
गर ठान लें
जन जन
विस्तार दे जंगलों को
रोपण कर एक एक वृक्ष

बूंद बूंद
योगदान दे कर
मुमकिन है
राष्ट्र को कर पाएं
स्थापित
गगनचुंबी मुकाम पर।
✍️ ©® डा सन्तोष चाहार “ज़ोया” २८/०८/२०१९

यूं न गवां

घर
सुखद बसेरा
आशाओं का नित सवेरा
रिश्तों की मिठास का अद्भुत बसेरा
भाग्यशाली को मिलता है सुरक्षा का ये घेरा
इसे यूं न गवां।

संतान
ईश्वरीय देन
चहल पहल से घर में चैन
सपनों पर उनके न लगाओ बैन
संस्कार सिंचित करने का ये सही रैन
इसे यूं न गवां।

रिश्तों
की महिमा
जिसने समझी व जानी
दुनिया में कोई नहीं उसका सानी
दंभ में होते हैं रिश्ते सदियों से चूर चूर
इन्हें यूं न गवां।

दोस्ती
का उंचा दर्जा
विश्वास की डगर फलता फूलता
शंकाओं के बादलों से हमेशा ही टूटता
दोस्ती में प्रेम-सरोवर का झरना फूटता
इसे यूं न गवां।

प्रेम
रसधार में
डूबे हैं नायब मोती
त्याग व समर्पण इसकी ज्योति
मिली है सौगात ईश्वर के दरबार से
इसे यूं न गवां।

जीवन
सुंदर सौगात
नयी राहों का लिखो प्रभात
क्षमताओं का परिचय हो दिन रात
सुंदर सुवासित हो रीत का मधुर संगीत
इसे यूं न गवां।

✍️©® डा. सन्तोष चाहार “जोया”14/03/2019

क्षणिकाएं

इश़्क
की कलम
ख़्वाब-ए-गुल की स्याही
लफ़्जों की फुलवारी का उपवन।
*********
उम्र
के काग़ज
नसीब-ए-सितम
ठहर गई तमन्नाओं की मंजिल।
***********
हुस्न
का ज़ाल
रफ़ाकतों का भ्रम
अहम और अंहकार के ऊंट।
***********
अंतर्दद्व
को झटक कर
थाम हौंसले की डोर
कागज़, कलम और दवात का
विस्तृत, रोमांचक व अद्भुत संसार।

✍️ ©® डा. सन्तोष चाहार ” जोया” 26/02/2019

रफ़ाकतों* मेलजोल

प्रेम पुष्प- कल और आज़

प्रौढ़ प्रेम

मुखर मौन उपवन
इश़्क लेता अंगड़ाई
मुस्कराते हृदय सुमन
हंस संग हंसनी शरमाई।

इश़्क सागर अनंत
प्रेम पुष्प पंखुडियां
जुड़ती अनेकों कड़ियां
रुहानी रिश्ता न होता अंत।

प्रेम डोर के धागे
रंग बिरंगे मांझे
बुनते सुंदर दोशाला
इश़्क एक भव्य पाठशाला।

युवा प्रेम आज़कल

युवा पीढ़ी समझें
प्रेम की गहराई
दंभपूर्ण करो ना
एक दूजे से रुसवाई।

प्रेम पुष्पों से महके
जीवन की सच्चाई
सुवासित रहे, हर डगर
जीवन बने सुखदाई।

इश़्क एक
सुरमयी अहसास
सच्चे हृदय में
खिलते फूल ये खास।

प्रेम की बहे
हर ओर सुवास
यही है कवि कलम की
हृदयतल से दरख्वाश।

✍️©® डा. सन्तोष चाहार “जोया”14/02/2019

टूटता पिंजरा

कल फिर टूटेगा
इक पिंजरा
कल फिर टूटेगा
इक बंधन
कल फिर छूटेगी
इक मैना
कल फिर हसेंगी
धरती
कल फिर हौसंले
भरेगें उड़ान
कल फिर
झुकेगा आसमान
कल फिर
होगा नय़ा सवेरा
कल फिर
लिखी जाएगी
नयी इबारत
कल फिर
चहकेगा घर आंगन
कल फिर
संस्कृति की नींव
होगी सुदृढ़
कल फिर टूटेंगी
विषमता की बेड़ियां
कल फिर
नारी का
होगा सम्मान
कल फिर उम्मीदें
चढ़ेगीं परवान
कल फिर सपने
चढ़ेगें सोपान
कल फिर
समरसता की
बहेगी बयार
क्योंकि समाज
बदल रहा है
बेटियों ने ठान ली है
वे पढ़ रहीं हैं
आगे बढ़ रही हैं
हर क्षेत्र में
गढ़ रहीं हैं
नये कीर्तिमान।

✍️©® डा.सन्तोष चाहार “जोया” 11/02/2019

तो…मैं गीत लिखूं

जब

विहग नव कलरव गाएं

भौंरे पुष्पों पर मंडरायें

तितलियाँ उपवन में भरे उड़ान
बागों में कोयल कूके
पपीहा भी मधुर गीत सुनाए
तो…मैं गीत लिखूं।
जब
धरा प्रकृति से लहराए
गगन जब तारे चमकाए
शशि नभ में मुस्काए
समीर जीवन संदेश लाए
सागर में लहरें इठलाएं
तो…मैं गीत लिखूं।
जब
हंसी की हिमानियां पिघल जाएं
करुण क्रंदन जब ठहर जाए
हिंसा का ताण्डव जब रुक जाए
सैनिक तिरंगे में लिपट कर ना आए
मां की ममता ना नीर बहाए
तो…मैं गीत लिखूं।
जब
हौंसलों को परवाज़ मिल जाए
बेटियां भी गौरव गाथा रच पाएं
दहलीज़ पार संसार को समझ पाएं
सदियों के दर्द जब मिट जाएं
मातृभूमि पर सब न्यौछावर हो जाएं
तो…मैं गीत लिखूं।
जब
कृषक के जीवन में खुशहाली आए
शिक्षा आमजन को सुलभ हो जाए
रंग भेद व जाति धर्म की दीवारें ढह जाएं
सुरसा सम बेरोजगारी का निदान हो जाए
संस्कारों की नीवं जब सुदृढ़ हो जाए
वृद्धावस्था जब मजबूर ना हो जाए
तो…मैं गीत लिखूं।
जब
मासूम बचपन मजदूरी से मुक्त हो जाए
इंसानियत का उत्सर्ग हो जाए
रिश्तों में कड़वाहट कुंद हो जाए
प्रकृति से सब लयबद्ध हो जाएं
सर्व सुखंति, सर्व संपदा बुलंद हो जाए
तो…मैं गीत लिखूं।
✍️©® “जोया” 10/02/2019

अज़ब कहानी

औरत की ये अज़ब कहानी

दुनिया करती आई मनमानी

दोयम दर्जा दिया पुरुषों ने

अपमानित किया नये हथकंडों ने।

लक्ष्मण रेखा सी पहेरेदारी

वचिंत रही सुखों की सवारी
सुबह से हो जाती शाम

नहीं होते खत्म घर के काम।

सदियों से जंजीर में जकड़ी

सपनों की डोर अब है पकड़ी
शिक्षित होने वह अब निकली
विषम परिस्थितियों में भले पली।

प्रेम में ठगी गई भावनाएं

झेलती रही बलाएं

नारी हृदय कभी न हर्षाए
दुआ में फिर भी मंगलकामनाएं।

जीवन मूल्यों की पक्षधर

शक्ति पल पल रही निखर

चेहरे पर है तेज़ प्रखर

कुटिलताओं से निपटे बन विषधर।

खेल जगत में मुकाम बनाती

गौरव देश का नित बढ़ाती

हिम्मत उसकी लिखती इबारत

दुश्मन पर टूटती बन कयामत।

नयी राहें हैं अपनाए

बाधाओं से तनिक ना घबराएं

छूती अब गगन तारिकाएं

अंतरिक्ष में झंडा फहराए।

सेना का गौरव बढा़ती

खुलकर अब वह हर्षाती

नाप रही सागर की थाती

लिख रही वक्त पर पाती।

धरा की गर्भ में हैं ज्यों मोती

प्रकृति सृजन नारी भी करती

रोशन जीवन सबका करती

दीप से दीप जले ज्यों ज्योति।

मान मर्दन को है ललकार

करेगी नहीं कृष्ण को पुकार

दुर्गा रुप धर लिए त्रिशूल

दुर्जनों की छाती में दाग देगी शूल।

समरसता का है उदघोष

नारी नारी में भरती जोश।

✍️©® “जोया”07/02/2019

हुंकार

युवाओं
पथ अपना प्रशस्त करो
सपने सजा़ए आंखो में
उन्हें ना बोझिल करो
शक्ति को पहचान
जिंदगी से जंग करो।

इंटरनेट
एक आभासी दुनिया
समय ना व्यर्थ करो
कौशल को तराशो
जीविका सुरक्षित करो।

काम
कोई नहीं होता छोटा
क्षमता अनुसार राह चुनो
निपुणता भी होगी हासिल
हुनर को तराशते चलो।

छोटी छोटी मंजिले
पथ पर तुम डट चलो
हौंसलों को बुलंद कर
मिला कर कदम तुम चलो।

कम्प्यूटर का
ज्ञान जरूरी
गति पकड़
दिनचर्या होती पूरी
सीख बारिकियों को
राह अपनी आसान करो।

ईश्वर ने
सभी को नवाजा है
एक गुण विशेष
पहचान कर उसे
सही उपयोग करो।

दूसरों से कर तुलना
कभी ना हीन भावना भरो
प्रत्येक व्यक्ति की
अपनी जीवन किताब
कोई प्रथम सीढ़ी पर
कोई चमके बन महताब।

✍️©® “जोया” 31/01/2019

मेहरबान लम्हें

हरियाणा राज्य का एक छोटा सा गांव चिमनी जहां अधिकतर परिवार खेती से अपनी गुज़र बसर करते हैं। कुछ युवा पुलिस व आर्मी में भी हैं। लड़कियों की शिक्षा पर थोड़ा ध्यान दिया जा रहा है। रेनू का परिवार भी खेती पर निर्भर है। दो बहनें और एक भाई है। पिता शराब पीने का आदी। मां शराबी पति से परेशान। आए दिन कोई ना कोई फसाद खड़ा ही रहता है। लड़कियां लेकिन होश संभालने के बाद से ही परिवार की रीढ़ बनने को तत्पर। पढ़ाई में दोनों बहनें बहुत होशियार। गांव के सरकारी स्कूल से दोनों ने बारहवीं कक्षा पास की। बड़ी बहन रेनु ने पांचवीं कक्षा के बाद से ही छोटे बच्चों को टूयशन पढ़ा कर अपनी और बहन की पढ़ाई का खर्च उठा रखा है और कुछ पैसे जमा भी करती रहती है। छोटी बहन अनु घर के कामकाज में मां की सहायता करती है। भाई को पढ़ाई में कोई रुचि नहीं और बारहवीं कक्षा के बाद आवारागर्दी में रहता है।

समय बीता ..रेनू ने अंग्रेजी विषय से एम ए करने के बाद बी. एड़ किया और एक प्राईवेट स्कूल में नौकरी पकड़ ली। अपनी मेहनत के दम पर एम फिल भी किया और फिर एक संस्था के महाविद्यालय में अडहोक पर प्रोफ़सर की नौकरी मिल गई.. एक दो साल वहां काम करने के पश्चात रेनू ने काफी पैसे जमा कर लिए थे। रहन सहन बिल्कुल सादा रखा लेकिन सलीका बहुत था हर काम करने का। इधर बहन अनु को भी पढ़ाती रही जिसने एम ए. गणित से किया और वह भी एम बी ए की प्रवेश परीक्षा की तैयारी में जुट गई। लड़कियां जवान हो रही थी तो गांव में लोगों ने उसके पिता को चैन से नहीं बैठने दिया। रिश्तों के लिए भागदौड़ शुरु हो गई लेकिन रेनू के पैर में लकवे की वजह से थोड़ी चाल में फर्क था जो ज्यादा दिखाई भी नहीं देता था। लेकिन ये बेरहम समाज हमेशा नुक्ताचीनी करके उसके रिश्ते को मना कर देते।

इस बीच रेनू ने रेगुलर जॉब गुरुग्राम के आवासीय इंजीनियरिंग कॉलेज में नौकरी मिल गई। तंख्वाह भी चालीस हज़ार मिलने लग गई। रेनू के पिता ने सैंकड़ों लड़के देखे लेकिन हर कोई कोई न कोई कमी निकाल ही देता। उसके पिता इस कदर परेशान हो गए कि बेटी के लिए विधुर के रिश्ते के लिए भी तैयार हो गए। लेकिन रेनू ने यहां अपना पक्ष रखा और रिश्ते को नामंजूर कर दिया। रेनु ने ये भी कह दिया कि, ” पापा आप अनु की शादी पहले कर दो। मुझे कोई जल्दी नहीं है”। अनुजा सुंदर थी, रिश्ता मिल गया। खेती से तो गुजर बसर ही होती थी। रेनु ने तीन लाख रुपये जमा किए थे, सब बहन की शादी में लगा दिए। रेनू की हर चीज़ की च्वॉइस क्लासिक थी। ये आवश्यक नहीं जो महंगा हो वही बढ़िया होता है। रेनू के पापा ने तो बस एक लाख शादी में लगाए थे। अनुजा की शादी अच्छी हो गई। देहज़ की कोई मांग नहीं थी। रेनू को माता पिता का आशीर्वाद मिलता रहता था जो बेटी होकर एक बेटे की भूमिका निभा रही थी और बाप का भी दायित्व संभाल रही थी।

समय बीता …रेनु के पिता व गांव के सरपंच अपने हल्के के एम एल ए से मिले और सरकारी स्कूलों के लिए जब वेकेंसी आई तो रेनू को पलस टू में लेक्चरर की जॉब मिल गई। तीन साल बीत गए। रेनू के लिए कोई रिश्ता नहीं मिल रहा था। पी. जी. में रहती रहते वह परेशान हो गई थी। मेरे पास आ जाती थी। एक आत्मीयता थी हमारे बीच। अपनी सब परेशानी मुझसे सांझा करती थी। मेरे कॉलेज में दो साल एडहॉक पर आयी थी। तभी से मेरा लगाव रहा है उसके साथ। दोनों बहनें एक साल मेरे घर भी रही थी। अनुजा तैयारी कर रही थी और रेनू उस समय एक पॉलीटेक्निक में जॉब कर रही थी। इसी दौरान उन दोनों बहनों से जुड़ाव रहा है। रेनू कभी कभी भावुक होकर कहती थी, ” मैम, अब मैं थक चुकी हूं सब संभालते संभालते। मैं भी चाहती हूं कोई मेरा भी ख्याल रखे। घर जाती हूं तो मां की अपनी परेशानी होती हैं।” मेरे हृदय से उसके लिए दुआएं ही निकलती थी। अब वह तैंतीस वर्ष की हो चुकी थी। निस्संदेह उसे भी एक सकून की तलाश थी..एक घर जिसे वह अपना कह सके… जहां जिंदगी चहल पहल कर रही हो..जहां जीवन रंगों से भरा हो।

ईश्वरीय विधान अपने हिसाब से नेमत बरसाता है। पिछले साल रेनु की शादी को एक साल हो गया है। उसी के स्कूल में एक हम उम्र महिला मित्र ने अपने भाई के लिए हाथ मांगा था और बिना दहेज़ की शादी कर उसे अपने घर की बहू बना कर ले गए। सीमित बारात आयी थी। रेनू ने अपनी एक से एक बढ़िया खरीदारी की थी। शादी में शामिल हुई थी मैं यद्मपि मुझे शादीयों में जाना खास अच्छा नहीं लगता। रेनू के फोन बराबर आते रहते थे। वह कहती है, ” मैम, मेरी सास बहुत अच्छी है। बहुत ध्यान रखती है। खुद भी अच्छा पहनती है और मुझे भी अच्छे सूट साड़ी भेंट करती रहती है.. मैम, मेरी तंख्वाह भी नहीं लेते मेरे सास ससुर..मेरी सास कहती है अपने लिए सोने के गहने बना ले …मैम मैंने बीस तोला सोने के नये गहने तैयार करवा लिए हैं…हर रोज़ गाड़ी पूल से स्कूल जाती हूं.. मैम अब में खुश हूं।”।

एक महीने पहले ही तो फोन आया था, ” मैम, बेटा हुआ है..” मेरा सिर उस दिन ईश्वरीय विधान के आगे श्रद्धा से झुक गया। रेनू की झोली में रब मेहरबानी के लम्हें डाल रहा था। कल ही तो बताया था ,” मैम, अनु की भी सरकारी नौकरी लग गई है.. लेक्चरार मैथ”। सच ही कहा है भगवान के घर देर है अंधेर नहीं।

✍️©® ” जोया” 26/01/2019