जिंदगी क्षणिकाएं

इश़्क
अधूरा फ़साना
जाज़िबा लफ्ज़ तराना
पाकिज़ा मोहब्बत की मुसाफ़त
हसीं दिलों की दिलकश नज़ाफत।
******************************
फिज़ा
की सुवास
ख्वाबों का मधुरमास
जरस-ए-दिल में दर्द भरे नग्में।
********************************
शिकस्त
ऐ जिंदगी
कसल की तहें
उम्मीदों के अंकुशित गणित।
*****************************
अरमानों
के बीज
अंतर्मन की गूंज
जुनून-ए-मसाफ़त का दृढ़संकल्प
कागज़ के दामन पर हौंसलों के मोती।
**********************************
✍️©® डा.सन्तोष चाहार “जोया” 27/02/2019
######################$$$$$$$
जाजिब़ा* मनमोहक
नज़ाफत*शुद्धता
कसल * आलस्य
मसाफ़त* ज़रनी
जरस* घंटियां

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  Change )

Google photo

You are commenting using your Google account. Log Out /  Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  Change )

Connecting to %s