निर्णय

सविता अपने पिता की सबसे लाडली बेटी थी। वह स्वभाव से भी बहुत ही विनम्र होने की वजह से अपनी सहेलियों मे भी बहुत लोकप्रिय थी। कालेज मे हमेशा अव्वल रहते हुए स्नातकोत्तर डिग्री हासिल करने के पश्चात वह एक बोर्डिंग स्कूल में शिक्षिका के पद पर चयनित हो गई। गजब की सुंदरता की धनी थी वह। एक से एक बढिय़ा रिश्ते आये उसके लिए लेकिन उसके पिताजी को पंसद नही आते थे। ये 1986 के दशक की कहानी है। विदेश मे स्थापित अच्छे लड़को के रिश्ते भी आये लेकिन सविता के पिताजी उसे अपने से दूर नहीं भेज़ना चाहते थे।

सविता की शादी फिर एक आर्मी अफसर से तय कर दी गई। सभी आश्चर्यचकित थे कि सविता जैसी सुंदर पत्नी मिली है कैप्टन राजेश को। सविता के लिए ये शादी लेकिन अभिशाप बनकर आयी थी क्योंकि सुहागरात वाले दिन से ही राजेश अलग कमरे मे सोता था। राजेश ने सविता को उस सुख से वंचित रखा जिसके लिए लड़की कितने ही हसीन ख्वाब देखती है। सविता ने शर्म की वज़ह से इस के बारे मे किसी से कुछ नही कहा।लेकिन वह एक घुटन में जिंदगी जी रही थी। वह एक ब्याही हुई भी कुवांरी रहने को अभिशप्त थी।

मायके मे किसी से कुछ नही बता पायी क्योंकि अभी उसकी छोटी बहन की शादी होनी थी और उसने सोचा कि यदि वह तलाक लेती है तो बहन की शादी नही हो पायेगी। पिता तो निश्चितं थे कि आर्मी वाले मेडिकल फिट होते हैं।…इस उहापोह की जिन्दगी में उसके तीन साल बीत गए। कभी कभी तो आत्महत्या तक के विचार आते थे। पति साथ होते हुए भी कभी संसर्ग नहीं हो पाता था क्योंकि पति काम से थक कर लौटते और एकदम बिस्तर पर आते ही खराटे लेते हुए नींद के आगोश मे चले जाते।

स्कूल की छुट्टियों में राजेश के साथ सविता आर्मी कल्ब की पार्टियों में भी जाती थी जंहा दूसरे अफसर उसे हसरत भरी निगाहों से देखते थे। सविता इन पार्टियों की जान होती थी और जिस तरह से वह महफिल को सज़ाती थी सब उसके दिवाने होते चले गए। आर्मी आफिसर उसके साथ डांस पर थिरकते थे तो राजेश मन ही मन कुठ़ा से ग्रसित रहते थे क्योंकि अपनी कमजोरी से वाकिफ थे। सविता ने इन तीन सालों में बहुत बार कहा कि सैक्सोलोजिष्ट से मिल लेते हैं। लेकिन राजेश साफ मना कर देते थे क्योंकि यह उसके अहम व पुरूषत्व पर चोट थी।परेशान होकर सविता ने पूछा कि फिर आपने मुझसे शादी ही क्यों की? कैप्टन राजेश का एक ही उत्तर था कि मां बाप की खुशी के लिए।

सविता छुट्टी खत्म होने पर अपने बोर्डिंग स्कूल में अपने निवास पर आ जाती थी। इस बीच छोटी बहन की भी शादी हो गई थी। सविता का धैर्य जवाब देता जा रहा था। उसकी बडी़ बहन दूसरे प्रदेश में नौकरी पर थी। इस शादी मे उनकी मुलाकात हुई तब सविता के सब्र का बांध टूट गया और उसने सारी बातें अपनी बड़ी बहन कविता से सांझा की।कविता हमेशा से ही समाज़ से टक्कर लेती आयी थी। उसने सब बातें अपने पिता से शेयर की । पिता अपनी बेटी के दुःख से बहुत परेशान हुए। वे कविता पर बहुत विश्वास करते थे और मानते थे कि वह कभी झूठ नही बोलेगी। संयुक्त परिवार मे कुछ सदस्यों का ये भी मानना था कि हो सकता है दोनों बहनें कोई और योजना बना रही हों। परिवार के दूसरे बुजुर्गों से सलाह मशवरा किया गया। बड़े ताऊ व पिताजी ने तो तुरंत निर्णय किया कि बेटी को और परेशान नहीं देख सकते।
पंचायत लेकर वे राजेश के घर वालों से मिले। उन दिनों राजेश भी छुट्टी आया हुआ था। उसके माता पिता ये मानने को तैयार ही नहीं थे कि उनके बेटे में कमी है। राजेश भी मां बाप के सामने चुप रहा और राजेश की बहने सविता की ही कमीयां गिनवाने लग गई। कितना आसान होता है बहू को दोषी ठहराना, जबकि राजेश के परिवार वाले जानते थे कि सुहागरात वाले दिन भी राजेश दोस्तों के साथ समय बीता कर भोर के समय लौटा था। और उसकी दुल्हन इंतजार करके आंसू पीकर सो गई थी। लेकिन समाज़ पुरूष प्रधान है और बहुत सी महिलाएं भी जाने अनजाने पित्तरात्मक सता की वाहक बन जाती हैं क्योंकि उन्हें बचपन से ही इस तरह के संस्कारों की घुट्टी पिलाई जाती है।

लेकिन सविता के घर वालों ने तलाक की अर्जी लगा दी थी। कोर्ट में जिस तरह से राजेश के वकील बहस कर रहे थे तो ऐसा लग रहा था जैसे भरी सभा में सविता का चीरहरण हो रहा हो। लेकिन सविता घबराई नहीं और अपने निर्णय पर अडिग रही। राजेश और सविता को छह महीने का समय दिया गया तालमेल बिठाने के लिए। लेकिन यहां तो कभी ताल ही नही मिली थी तो मेल कैसे होता।

छ महीने पश्चात आखिर दोनों को मयूचवल तलाक की इजाज़त मिल गई। सविता ने राहत की सांस ली । उसे ये महसूस हो रहा था जैसे कैद से रिहा हुई हो। अब उसका लक्ष्य था अपने कर्मक्षेत्र में नाम कमाने का। वह बहुत लगन से बोर्डिंग स्कूल मे पढ रहे छात्रों के साथ मेहनत करती रही। पिताजी ने दूसरी शादी के लिए उससे राय ली क्योंकि वह अपनी सबसे लाड़ली बेटी के दुख से टूट चुके थे। उन्होंने ने उस ज़माने में तलाक दिलवाया जब समाज़ तलाकशुदा लड़की को स्वीकार नहीं करता था।

लेकिन अहम बात ये थी सविता शिक्षित होने की वज़ह से आत्मनिर्भर थी और उसने अपने जीवन को शिक्षा के प्रति समर्पित कर दिया। माता पिता की सेवा करके उनके आशीर्वाद की हकदार बनी रही और जीवन के नये आयाम गढे़। आज़ सविता के द्ववारा पढाये हुए बच्चे देश विदेश में नाम कमा रहे हैं। वे हमेशा सविता के संम्पर्क में रहते हैं और आभार प्रकट करते हैं कि उनके जीवन का सही मार्गदर्शन किया। इस तरह सविता का परिवार बहुत बडा़ है जहाँ प्रेम की जलधारा निरन्तर बहती रहती है। एक शिक्षक के लिए इससे बड़ी क्या उपलब्धि हो सकती हे।

✍️©® “जोया” 20/09/2018)

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  Change )

Google photo

You are commenting using your Google account. Log Out /  Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  Change )

Connecting to %s